भारत की आधी आबादी इस Silent Killer बीमारी से हैं अनजान, रहना होगा सावधान

स्वास्थ्य

भारत में 15 से 49 आयु वर्ग के केवल आधे वयस्क अपनी डायबिटीज यानी मधुमेह की स्थिति के बारे में जानते हैं। इस बीमारी से ग्रस्त सिर्फ एक चौथाई लोगों को इलाज मिल पाता है और उनकी रक्त शर्करा नियंत्रण में रहती है। एक नए अध्ययन में यह बात सामने आई है। मधुमेह से निपटने के लिए सबसे पहले लोगों को इसके बारे में जानकारी होना जरूरी है। लेकिन, इससे ग्रस्त 47.5 फीसद लोगों को अपनी बीमारी के बारे में पता ही नहीं होता। इस कारण उन्हें इलाज नहीं मिल पाता। डायबिटीज से ग्रस्त ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले गरीब और कम शिक्षित लोगों को देखभाल सबसे कम मिल पाती है।

इस अध्ययन में राष्ट्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार सर्वेक्षण के वर्ष 2015-16 के आंकड़ों का उपयोग किया गया है, जिसमें 29 राज्यों एवं सात केंद्र शासित प्रदेशों के 15-49 वर्ष के 7.2 लाख से अधिक लोग शामिल थे। यह अध्ययन नई दिल्ली स्थित पब्लिक हेल्थ फाउंडेशन और अन्य संस्थाओं ने मिलकर किया है। शोधकर्ताओं ने पाया कि मधुमेह से पीड़ित 52.5 फीसद लोग अपनी बीमारी की स्थिति के बारे में जानते हैं। लगभग 40.5 फीसद लोगों ने बताया कि वे इससे नियंत्रण में रखने के लिए दवा ले रहे हैं। जबकि, कुल मधुमेह ग्रस्त लोगों में से सिर्फ 24.8 फीसद लोगों का मधुमेह नियंत्रण में पाया गया है।

(सभार/सौजन्य से)


Comment






Total No. of Comments: